आखिर क्यों बनी बेटी ही कन्या भ्रुण हत्या कारण………

ओ प्यारी माँ……..ओ प्यारी माँ…… आज तेरा है अंतिम दिन। माँ एक सवाल पुछना। क्या जवाब दे पाओगी क्या। क्यों बेटे और बेटी में फर्क। क्या आज बता पाओगी क्या। क्या आज समझा पाओगी क्या। ओ प्यारी माँ……..ओ प्यारी माँ…… बेटे और बेटी दोनों तेरी ही कली। फिर क्युँ माँ बेटी ही मुरझाई कली। फिर […]

Read More...

प्रेम

बैठे बैठे आज अचानक ही मन में एक सवाल उमड़ आया प्रेम क्या है? क्या किसी को देख कर मन में उठने वाले आकर्षण के भाव को ही प्रेम कहते हैं? या एक दूसरे के पास रहना या एक दूसरे को पा लेना ही प्रेम का वास्तविक अर्थ है? नहीं प्रेम का वास्तविक अर्थ इतना […]

Read More...

गरीबी एवं किस्मत

बाज़ार में मसगूल था वो, मुनाफे की आस लगाए। कि आज उसके बच्चों को, दो वक़्त की रोटी नसीब हो जाए। गलियों में फिर रहा था, साइकिल की घंटी बजाता। सामानो से भरा पड़ा वो, रुपए 15 में हर सामान दिलवाता। कर्ज में डूबा परा वो, फिर भी चेहरे पर चमक थी। परिवार संग पर्व […]

Read More...

आखिर क्यों…….

आखिर क्यों, आखिर क्यों। माँ बनी……………………. बेटी परवरिश की बदनाम। क्या यही था। क्या यही था। उसकी प्यारी ममता का परिणाम। मानो आसुँ बन छलके। मानो आसुँ बन छलके। उसका कोई भयानक उपनाम। गाती थी बिलखती थी। वो प्यारी माँ………….. वो प्यारी माँ………….. आखिर किसे अपना दुख दर्द। जता पाती थी। सोती थी जागती थी। […]

Read More...

एक किसान का प्यार

एक किसान का प्यार :- ” तुम पूछती हो , तुम प्यार पर कविताये क्यों नहीं लिखते ? मैं लिखता हूं , हर दिन , हर क्षण तुम्हारे बारे में आदिम सभ्यता की शुरुआत से प्रलय होने तक ! लेकिन प्रिये , हमारा प्यार जैसे – जैसे बढ़ता गया दूसरों की नजरों में खटकता गया […]

Read More...

गजल

तुम्हारी याद में निकले जो हमारे आंसू बन गए कुमकुमे जुगनू कभी तारे आँसू   मेरी हिम्मत मेरी ताकत है ये प्यारे आँसू जिन्दगी तेरे ही  भरोसे   गुजारे     आँसू   रह के खामोश भी हर दर्द बयाँ कर देते दिल पे इक चोट हैं दे जाते करारे आँसू   बड़ा जालिम है जमाना नही […]

Read More...

देशभक्ति

जीवन में उदगार स्थापित, मर्यादा से कर पाए। आदर्श पूर्ण हो जीवन, सदमार्ग पर चल पाए। ललाट पर शौर्य की रेखा,शौर्य पूर्ण ही जीवन हो। कायरता की ढाल न लेना,जीवन ही पराक्रमी हो। प्रेम से मार्ग प्रदर्शित, मानवता प्रविष्टि रहे। जीवन के हर इक पहलू में ,देश प्रेम विशिष्ट रहे। बलिदान हुए इस माटी पर,उनकी […]

Read More...

शीत-निशा

शीत-निशा तुम किधर गई थी ?   कौन गोद में रैन- बसेरा, किस डाली पर दिवस बिताया ? किनको तुमने इतने दिन तक, अपनी साँसों से कंपाया ? होली, तीज, दिवाली बीती, क्या तुझको यह याद न आया अचरज! तुमने इतने हिम को, इतने दिन तक कहाँ छुपाया सरस गुदगुदी रातों को भी, ले अपने […]

Read More...

मैं नहीं मधु का उपासक

मैं नहीं मधु का उपासक, है गरल से प्रेम मुझको !   कीर्ति, सुख, ऐश्वर्य, धनबल, बाहुबल और बुद्धि बंचित, सम्पदा से हीन हूँ मैं, फिर मुझे क्यों दम्भ होगा ? सत्य शिव का मैं पुजारी, मैं नहीं याचक बनूँगा, नहि जगत से बैर मेरा, स्वाभिमानी ढंग होगा ! शुद्ध मति के प्रेम से ही […]

Read More...

एक दीप स्वीकार करो माँ

अगणित दीपों के प्रकाश में, एक दीप स्वीकार करो माँ, कर प्रकाश निज हृदयपटल में,अंतर्मन के तिमिर मिटाएं मन के तम को करें पराजित, मानवता को गले लगाएं, मिथ्या, मृषा, अनृत के तम को,सारे जग से आज हरो माँ, अगणित दीपों के प्रकाश में, एक दीप स्वीकार करो माँ !1!   धर्म-मार्ग के गामी सब […]

Read More...

वेबसाइट के होम पेज पर जाने के लिए क्लिक करे

Donate Now

Please donate for the development of Hindi Language. We wish you for a little amount. Your little amount will help for improve the staff.

कृपया हिंदी भाषा के विकास के लिए दान करें। हम आपको थोड़ी राशि की कामना करते हैं। आपकी थोड़ी सी राशि कर्मचारियों को बेहतर बनाने में मदद करेगी।

[paytmpay]