उ0 प्र0 माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड 23 एलनगंज इलाहाबाद – 211002

पाठ्यक्रम- प्रशिक्षित स्नातक विषय :- हिन्दी (01)

हिंदी साहित्य का इतिहास –

आदिकाल, भक्तिकाल, ( संत काव्य , सूफी काव्य, रामकाव्य, कृष्ण काव्य )
रीतिकाल, आधिनिक काल, भारतेन्दु युग, व्दिवेदी युग, छायावाद, प्रगतिवाद, प्रयोगवाद, नयी कबिता |

हिंदी गद्य साहित्य का विकास –

निबंध, नाटक उपान्यास, कहानी, हिंदी गद्य की लघु विधाएं – जीवनी, आत्मकथा, सस्मरण रेखा चित्र, यात्रा – साहित्य गद्यकाव्य व्यग्य | हिंदी के रचनाकार एवं उनकी रचनाऐं |

काव्य के भेद –

रस, अवयव भेद, छंद, अलंकार, शब्दालंकार, अर्थालंकार, काव्यगुण, काव्य दोष |
भाषा विज्ञान – हिंदी की बोलियाँ विभाषाएँ, हिंदी की शब्द सम्पदा, हिंदी की ध्वनियाँ देवनागरी लिपि नामाकरण, विकास विशेषताएँ, त्रुटियाँ सुधार के प्रयत्न |

व्याकरण-

लिंग, वचन, कारक, संधि, समास, वर्तनी, वाक्य, शुद्धिकरण, शब्द रूप – पर्यायवाची, विलोम, श्रुति समभिन्नार्थक शब्द, वाक्यांश के लिए एक शब्द, मुहावरा, लोकोक्ति |

संस्कृत साहित्य –

(1) : संस्कृत के प्रमुख रचनाकार एवं उनकी रचनाएँ,कालीदास, भवभुति, भारवि, माघ, दण्डी, श्रीहर्ष |
(2) : सन्धि –स्वर एवं व्यंजन सन्धि, समास, शब्द रूप, धातु रूप कारक प्रयोग |
(3) : अनुवाद

उ0 प्र0 माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड 23 एलनगंज इलाहाबाद – 211002

पाठ्यक्रम -प्रवक्ता विषय :- हिन्दी (04)

हिंदी साहित्य का इतिहास :-

आदिकालीन साहित्य की प्रमुख प्रवृत्तियाँ , भक्तिकाल, संतकाव्य, सूफीकाव्य, रामभक्ति काव्य, कृष्ण भक्ति काव्य, रीतिकाव्य धारा, रीतिबद्ध, भारतेन्दु युग, व्दिवेदी युग, छायावाद, प्रगतिवाद, नयी कविता |

गद्य साहित्य का विकास –

आलोचना, निबंध, नाटक, कहानी, उपान्यास,
हिंदी की लघु विधाओ का विकासात्मक परिचय, जीवनी, संस्मरम,आत्मकथा, रेखाचित्र, यात्रा – साहित्य, गद्यकाव्य एवं व्यंग्य |

काव्य शास्त्र-

अवयव भेद,रस, छंद, अलंकार, काव्यगुण, काव्यदोष, शब्द शक्तियाँ |

भाषा विज्ञान-

हिंदी की उपभाषाएँ, विभाषाए,बोलिया, हिंदी शब्द सम्पदा, हिंदी की ध्वनिया |

व्याकरण –

हिंदी की वर्तनी, सन्धि, समास, लिंग, वचन, कारक, विराम चिन्ह का प्रयोग , पर्यायवाची, विलोम, वाक्यांश के लिए एक शब्द, वाक्य शुद्धि, मुहावरा लोकोक्ति |

(1) संस्कृत साहित्यकेप्रमुखरचनाकार एवं उनकी रचनाएँ ‌–

भास, कालीदास, भारवी,माघ, दण्डी, भवभूति, श्रीहर्ष, मम्मट, विश्वनाथ, राजशेखर |

(2) व्याकरण –

सन्धि स्वर, सन्धि, व्यंजन संधि, विसर्ग समास, विभक्ति, उपसर्ग, प्रत्यय,शब्दरूप, धातुरूप, काल अनुवाद |

नोट – समस्त प्रतियोगी छात्र / छात्राओ से अनुरोध है कि पाठ्यक्रम को देख कर अध्ययन शुरू करें ‌| टी0 जी0 टी0 और पी0 जी0 टी0 पाठ्यक्रमो की अध्ययन पाठ्य सामाग्री दी जा रही है | किसी भी असुविधा के लिये वेबसाइड मे दी जा रही मैसेज बाँक्स मे टाइप करके भेजे | आप की समस्याओं के निस्तारण करने का प्रयास किया जायेंगा |


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

वेबसाइट के होम पेज पर जाने के लिए क्लिक करे

Donate Now

Please donate for the development of Hindi Language. We wish you for a little amount. Your little amount will help for improve the staff.

कृपया हिंदी भाषा के विकास के लिए दान करें। हम आपको थोड़ी राशि की कामना करते हैं। आपकी थोड़ी सी राशि कर्मचारियों को बेहतर बनाने में मदद करेगी।

[paytmpay]