भारतीय नागरिकों के मूल कर्तव्य


भारतीय संविधान में अनुच्छेद 51 क में मूल कर्तव्य को जोड़ा गया है । नागरिकों के अधिकार और कर्तव्य आपस में संबंधित मालूम पड़ते हैं । यद्यपि ऐसा नहीं है । भारत के मूल संविधान में ‘मूल अधिकार ‘ तो थे ,परंतु मूल कर्तव्य नहीं था । आइए हम जानते हैं कि मूल कर्तव्य भारतीय संविधान में कब और कैसे जोड़ा गया ।


“स्वर्ण सिंह समिति “और “मूल कर्तव्य” –

सन् 1976 ई. में कांग्रेस पार्टी की सरकार ने “सरदार स्वर्ण सिंह समिति” का गठन किया । समिति को मूल कर्तव्यों के संबंध में संस्तुति देनी थी । समिति ने मूल कर्तव्यों के संबंध में विस्तृत अध्ययन एवं जांच पड़ताल की । भारतीय परिवेश में कर्तव्यों की अहम भूमिका को ध्यान में रखकर इसके लिए संविधान में एक अलग पाठ होने की सिफारिश आयोग ने की । भारतीय संविधान में मूल कर्तव्यों को पूर्व सोवियत संघ (रूस) के संविधान से प्रभावित होकर लिया गया ।
स्वर्ण सिंह समिति ने मूल कर्तव्यों को शामिल करने की सिफारिश की । केंद्र की कांग्रेस सरकार ने समिति की सिफारिश स्वीकार कर लिया । सरकार ने 42 वें संविधान संशोधन अधिनियम 1976 लागू किया । इस संशोधन के माध्यम से संविधान में एक नए भाग iv क जोड़ा गया । इस भाग में एकमात्र अनुच्छेद 51 क में 10 मूल कर्तव्यों का उल्लेख किया गया ।
11 वां मूल कर्तव्य 86 वें संविधान संशोधन अधिनियम 2002 द्वारा जोड़ा गया । इसमें 6 वर्ष से 14 वर्ष तक के बच्चों को शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराना शामिल है । इस प्रकार वर्तमान समय में 11 मूल कर्तव्य हैं ।


भारतीय नागरिकों के मूल कर्तव्यों की सूची-

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 51 क वर्णित नागरिकों के मूल कर्तव्यों का वर्णन इस प्रकार है –

(1) संविधान का पालन करें और उसके आदर्शों , संस्थाओं राष्ट्र ध्वज और राष्ट्रगान का आदर करें ।
(2) स्वतंत्रता के लिए हमारे राष्ट्रीय आंदोलन को प्रेरित करने वाले उच्च आदर्शों को हृदय में संजोए रखें और उनका पालन करें ।
(3) भारत की संप्रभुता एकता और अखंडता की रक्षा करें और उसे अक्षुण्ण रखें ।
(4) देश की रक्षा करें और आह्वान किए जाने पर राष्ट्र की सेवा करें ।
(5) भारत के सभी लोगों में समरसता और समान भ्रातृत्व की भावना का निर्माण करें जो धर्म ,भाषा और प्रदेश या वर्ग आधारित सभी भेदभाव से परे हो , ऐसी प्रथाओं का त्याग करें जो स्त्री के सम्मान के विरुद्ध है ।
(6) हमारे संस्कृति की गौरवशाली परंपरा का महत्व समझें और उसका परिरक्षण करें ।
(7) प्राकृतिक पर्यावरण की ,जिसके अंतर्गत वन , झील , नदी तथा वन्य जीव हैं , रक्षा करें और उसका संवर्धन करें तथा प्राणिमात्र के प्रति दया भाव रखें ।
(8) वैज्ञानिक दृष्टिकोण मानववाद और ज्ञानार्जन तथा सुधार की भावना का विकास करें ।
(9) सार्वजनिक संपत्ति को सुरक्षित रखें और हिंसा से दूर रहें ।
(10) व्यक्तिगत और सामूहिक गतिविधियों के सभी क्षेत्रों में उत्कर्ष की ओर बढ़ने का सतत प्रयास करें , जिससे राष्ट्र निरंतर बढ़ते हुए प्रगति और उपलब्धि की नई ऊंचाइयों को छू ले ।
(11) 6 से 14 वर्ष तक की उम्र के अपने बच्चों को शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराना ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

वेबसाइट के होम पेज पर जाने के लिए क्लिक करे

Donate Now

Please donate for the development of Hindi Language. We wish you for a little amount. Your little amount will help for improve the staff.

कृपया हिंदी भाषा के विकास के लिए दान करें। हम आपको थोड़ी राशि की कामना करते हैं। आपकी थोड़ी सी राशि कर्मचारियों को बेहतर बनाने में मदद करेगी।

[paytmpay]