व्याकरण की परिभाषा और महत्व

व्याकरण की परिभाषा

व्याकरण वह साधन है जिसके माध्यम से हम किसी भी भाषा को शुद्ध – शुद्ध पढ़ने ,लिखने एवं समझने का ज्ञान प्राप्त करते है |

उदाहरण – व्याकरण के माध्यम से शब्दों का क्रम एवं उनके प्रयोग की जानकारी प्राप्त होती है |जैसे – वह गाय काली है |व्याकरण की दृष्टि से यह वाक्य अशुद्ध है जिसका शुद्ध वाक्य होगा –वह काली गाय है | इसी प्रकार शुद्ध वाक्यों एवं शब्दों का प्रयोग ही व्याकरण कहलाता है |

व्याकरण का महत्व

– व्याकरण की महत्ता सर्व विदित है | इसकी महत्ता के बारे में संस्कृत मे एक श्लोक है ,जो व्याकरण की महत्ता को दर्शाता है |

श्लोक इस प्रकार है –

यद्यपि बहु नाधीषे तथापि पठ पुत्र व्याकरणम् |
स्वजनो श्र्वजनो माsभूत्सकलं शकलं सकृत्शकृत् ||

अर्थात हे पुत्र ! यदि तुम बहुत अधिक विद्वान नहीं बन पाते हो या बहुत अधिक नहीं पढ़ पाते हो , तो भी व्याकरण अवश्य पढ़ो , जिससे कि ‘स्वजन’ (अपने लोग ) के स्थान पर ‘श्र्वजन’ (कुत्ता) तथा ‘सकल’ (सम्पूर्ण) के स्थान पर ‘शकल’ (टूटा हुआ) और ‘सकृत्’ (किसी समय ) के स्थान पर ‘शकृत’ ( गोबर का घूर ) न हो जाय |
कहने का तात्पर्य यह है कि यदि व्याकरण का ज्ञान नही रहेगा तो समाज में उपहास के पात्र हो जायेंगे |`अत: सभी लोगों को व्याकरन अवश्य पढ़ना चाहिए |


One response to “हिन्दी व्याकरण की परिभाषा और महत्व”

  1. Rahul kumar says:

    9297616442
    वर्ण उस मूल ध्वनी को कहते हैँ,जिसके खंड या टुकङे नहीँ किये जा सकते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

वेबसाइट के होम पेज पर जाने के लिए क्लिक करे

Donate Now

Please donate for the development of Hindi Language. We wish you for a little amount. Your little amount will help for improve the staff.

कृपया हिंदी भाषा के विकास के लिए दान करें। हम आपको थोड़ी राशि की कामना करते हैं। आपकी थोड़ी सी राशि कर्मचारियों को बेहतर बनाने में मदद करेगी।

[paytmpay]