आरण्यक ग्रंथ

आरण्यक का अर्थ और परिचय  –  

अरण्य का अर्थ वन या जंगल होता है । आरण्यक के अर्थ के विषय में कहा गया है –“अरण्ये भवम्, अरण्यकम् ”  अर्थात अरण्य (वन) में जो होता है, उसे आरण्यक कहते हैं । इस प्रकार आरण्यक का अर्थ किया जा सकता है कि “अरण्य में आत्मविद्या ,चिंतन ,मनन ,रहस्यात्मक विषयों पर पठन-पाठन का कार्य किया जाय ,उसे आरण्यक कहते हैं ।”

प्राचीन काल में ऋषि- मुनि या वे लोग जिनकी अध्यात्म में गहरी रुचि थी, वानप्रस्थ अवस्था के समय अरण्य में निवास करते थे । वे आत्मचिंतन, मनन में लीन रहते थे । कुछ ऐसी विशेष विधाएँ थी, जिसका प्रयोग मानव समाज में वर्जित था , इसलिए वे जंगलों में निश्चिंत होकर उसका प्रयोग करते थे , वहां उन्हें किसी प्रकार की मानसिक परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता था । ऋषियों ने अपने प्रायोगिक ज्ञान को लिपिबद्ध किया । उस ग्रंथ को आरण्यक कहा गया । आरण्यक ग्रंथ कहे जाने के पीछे कारण यह था कि वे सभी ग्रंथ अरण्य अर्थात् जंगल में लिखे गये ।

आरण्यकारों का कर्मकांडो पर विशेष झुकाव नहीं था । उन्होंने ज्यादातर तत्वज्ञान की मीमांसा की है । इस कारण आरण्यक ग्रंथों को ब्राह्मण ग्रंथ एवं उपनिषद् के बीच की कड़ी माना जा सकता है । बौधायन धर्मसूत्र भाष्य (2-8-3) एवं गोपथ ब्राह्मण (2-10) में आरण्यकों को ‘ रहस्य ग्रंथ ‘ कहा गया है ।

वेद और आरण्यक ग्रंथों की सूची –

नीचे तालिका में एक सूची दी जा रही है । जिसमें यह बताया गया है कि कौन सा आरण्यक ग्रंथ किस वेद से सम्बंधित है ।

वेदआरण्यक ग्रंथ
ऋग्वेद(1) ऐतरेय आरण्यक (2) शांखायन या कौषीतकि आरण्यक
यजुर्वेद

1 शुक्ल यजुर्वेद

2 कृष्ण यजुर्वेद

 

वृहदारण्यक

तैत्तिरीय आरण्यक

सामवेदकोई आरण्यक नहीं
अथर्ववेदकोई आरण्यक नहीं

 

 

अरण्यक ग्रंथों का संक्षिप्त परिचय-

यदि आरण्यकों  का क्रम देखा जाए तो वैदिक साहित्य में वेद के बाद ब्राह्मण ग्रंथ आते हैं , ब्राह्मण ग्रंथ के बाद आरण्यक और आरण्यक के बाद उपनिषद् आते हैं । आरण्यकों में  ब्राह्मण ग्रंथों  के और उपनिषदों के प्रतिपाद्य विषय मिलते हैं । ये सभी इस प्रकार मिश्रित हैं कि उनके बीच सीमा रेखा खींचना बहुत कठिन है । आरण्यक में यज्ञों के गूढ़ रहस्यों का उद्घाटन किया गया है । आध्यात्मिकता की ओर आरण्यकों  का झुकाव रहा है ।

आरण्यक ग्रंथों का संक्षिप्त परिचय निम्नलिखित है —

  1. ऐतरेय आरण्यक – 

    इसका संबंध ऋग्वेद से है इसमें 18 अध्याय हैं जो 5 भागों में विभक्त हैं ।इस आरण्यक में प्राणविद्या ,आत्म स्वरूप का वर्णन , वैदिक अनुष्ठान , स्त्रियों का महत्व आदि का विस्तार से वर्णन किया गया है ।

 

  1. शांखायन या कौषीतकि आरण्यक – 

    इसका संबंध ऋग्वेद से है । इसमें 15 अध्याय हैं । इस आरण्यक का अध्याय 3 से 6 अध्याय तक कौषीतकि उपनिषद् के नाम से प्रसिद्ध है । इसमें महाव्रतों, आध्यात्मिक अग्निहोत्र आदि का वर्णन किया गया है । इसमें विदेह काशी , कुरु-पांचाल आदि स्थलों का वर्णन है ।

  2. बृहदारण्यक –

    इसका संबंध शुक्ल यजुर्वेद से है । बृहदारण्यक में आध्यात्मिक चर्चा अधिक मात्रा में पाया जाता है , इस कारण यह उपनिषद् के रूप में गिना जाता है । परंतु बीच-बीच में यज्ञों के रहस्य का वर्णन किया गया है ,इसलिए आरण्यक कहा जाता है ।

  3. तैत्तिरीय आरण्यक –

    यह कृष्ण यजुर्वेद के तैत्तिरीय शास्त्र का आरण्यक है । इसमें 10 परिच्छेद या प्रपाठक हैं । इसमें स्वाध्याय,अभिचार मंत्र ,पितृमेध आदि का वर्णन है । इसके सातवें आठवें और नौवें प्रपाठक को मिलाकर “तैत्तिरीय उपनिषद” कहा जाता है । 10वें प्रपाठक को “नारायण उपनिषद्” कहते हैं । इस प्रकार प्रपाठक 1 से 6 तक ही तैत्तिरीय आरण्यक है ।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

वेबसाइट के होम पेज पर जाने के लिए क्लिक करे

Donate Now

Please donate for the development of Hindi Language. We wish you for a little amount. Your little amount will help for improve the staff.

कृपया हिंदी भाषा के विकास के लिए दान करें। हम आपको थोड़ी राशि की कामना करते हैं। आपकी थोड़ी सी राशि कर्मचारियों को बेहतर बनाने में मदद करेगी।

[paytmpay]