ब्राह्मण ग्रंथों का परिचय

जब वेदों का अर्थ आम जनता के पहुंच से दूर होता गया तो उसके अर्थ को सरल एवं स्पष्ट भाषा में वर्णन हेतु ब्राह्मण ग्रंथों की रचना हुई । वेदों के अर्थ ज्ञान के साथ-साथ ब्राह्मण ग्रंथों ने यज्ञों  एवं कर्मकांडो की क्रिया विधि को भली-भांति समझाने का प्रयास किया । इन ग्रंथों को ‘ ब्राम्हण ’  कहने के निम्न कारण है –

  1. ब्रह्मन्  का अर्थ ‘मंत्र’ है, अत: मंत्रों की व्याख्या करने के कारण इन्हें ब्राह्मण कहा गया ।
  2. ब्रह्मन् का अर्थ ‘ रहस्य ’ भी है, अतः इन ग्रंथों ने वैदिक रहस्यमय श्लोकों के अर्थों की व्याख्या की है । इस कारण इन्हें ब्राम्हण कहा गया । इसमें यज्ञों का आध्यात्मिक, आधिदैविक एवं वैज्ञानिक महत्व का भी वर्णन किया गया है ।

3.ब्रह्मन् का अर्थ ‘ यज्ञ ’ भी होता है । अत: यज्ञों की व्याख्या एवं उसकी क्रियाविधि का वर्णन करने के कारण इन ग्रंथों को “ ब्राह्मण ’’ कहा गया ।

अधिकतर ब्राह्मण ग्रंथ गद्य में लिखे गये हैं । ब्राह्मण ग्रंथों से हमें उत्तरकालीन समाज एवं संस्कृति का ज्ञान प्राप्त होता है । इसमें परीक्षित के बाद और बिंबिसार के पूर्व की घटनाओं का ज्ञान होता है । वाचस्पति मिश्र ने ब्राह्मण ग्रंथों का प्रयोजन निर्वचन, मंत्रों का विनियोग ,अर्थवाद एवं विधि माना है । वैदिक साहित्य में ऋग्वेद का स्थान सर्वोपरि है । ऋग्वेद के बाद “ शतपथ ब्राह्मण ” का स्थान है । भट्ट भास्कर ने कर्मकांड तथा मंत्रों के व्याख्यान ग्रंथों को ‘ ब्राह्मण ’ कहा है । भट्ट भास्कर का कथन है –

ब्राह्मणं नाम कर्मणस्तन्मंत्राणां व्याख्यानग्रंथ: ।

[ भट्ट भास्कर- तैत्ति . सं. 1-5-1 ]

ब्राह्मण ग्रंथों की भाषा शैली- 

ब्राह्मण ग्रंथ वेद के दुरुह शब्दों  की व्याख्या करते है । वेद के मंत्रों के अर्थ सरल व स्पष्ट भाषा में बताते हैं । इस कारण ब्राह्मण ग्रंथों की भाषा स्पष्ट व सरल भाषा में लिखे गये हैं । प्रसाद गुण युक्त  हैं । जिसमें आम लोगों को भी वेदों में वर्णित ज्ञान आसानी से समझ में आ जाए । इनकी भाषा वैदिक और लौकिक संस्कृत को जोड़ने वाली  है । प्रसंगानुकूल शैली का प्रयोग किया गया है ।

वेद और ब्राह्मण ग्रंथों का परिचय –

वेद के बाद ब्राह्मण ग्रंथों का स्थान आता है । हर वेद का एक या उससे अधिक ब्राह्मण ग्रंथ है  या कह सकते हैं कि प्रत्येक ब्राह्मण ग्रंथ किसी न किसी रूप से किसी ना किसी वेद से संबंधित है । आगे हम एक सूची के माध्यम से यह बताने का प्रयास करेंगे कि कौन से वेद के अंतर्गत कौन सा ब्राह्मण ग्रंथ आता है ।

वेद और ब्राह्मण ग्रंथों की सूची …

वेदब्राह्मण ग्रंथ
ऋग्वेद(1) ऐतरेय ब्राह्मण (2) शांखायन या कौषीतकि ब्राह्मण
यजुर्वेद

1 शुक्ल यजुर्वेद

2 कृष्ण यजुर्वेद

 

शतपथ ब्राह्मण

तैत्तिरीय ब्राह्मण

सामवेदपंचविंश (तांड्य या प्रौढ़ ) ब्राह्मण , ष्ड्विंश ब्राह्मण , सामविधान ब्राह्मण , आर्षेय ब्राह्मण ,  देवताध्याय ब्राह्मण , छान्दोग्य ( मंत्र) ब्राह्मण , संहितोपनिषद् ब्राह्मण , वंश ब्राह्मण

( नोट – कहीं कहीं पर नौ ब्राह्मण ग्रंथ भी बताए गये है । )

अथर्ववेदगोपथ ब्राह्मण

 

ब्राह्मण ग्रंथों का संक्षिप्त परिचय –  

वेदों की व्याख्या करने वाले ग्रंथ ब्राह्मण ग्रंथ कहलाते हैं । प्रमुख ब्राह्मण ग्रंथों का संक्षिप्त परिचय दिया जा रहा है –

  1. ऐतरेय ब्राह्मण-

इस ग्रंथ के रचयिता महिदास ऐतरेय माने जाते हैं । इसमें 40 अध्याय हैं ,जिसको पांच -पांच अध्यायों की आठ पंचिकाओं  में विभक्त किया गया है । यह ग्रंथ ऋग्वेद का सबसे प्रसिद्ध ब्राह्मण ग्रंथ है । इस ग्रंथ में कुलपुरोहित के अधिकार, राज्याभिषेक, सोमयाग  से संबंध अग्निष्टोम, अग्निहोत्रादि आदि का वर्णन किया गया है । इसमें आख्यान और इतिहास भी है । शुन: शेप आख्यान में प्रसिद्ध उक्ति “चरैवेति –चरैवेति ” के महत्व को बताया गया है । जिसमें चलते रहने की शिक्षा दी गई है ‘ चरैवेति ’ की महत्ता बताते हुए कहा गया है  –

आस्ते भग आसीनस्य , ऊर्ध्वंतिष्ठति तिष्ठत: ।

          शेते निपद्यमानस्य , चरति चरतो भग: ।

          चरैवेति चरैवेति ॥  

[ ऐतरेय ब्राह्मण , अध्याय 3 खण्ड 3 ]

( आसीनस्य भग आस्ते , तिष्ठत: ऊर्ध्व: तिष्ठति , निपद्यमानस्य शेते , चरत: भग: चराति , चर एव इति ।)

अर्थ- इस श्लोक में बताया गया है कि जो मनुष्य बैठा रहता है ,उसका सौभाग्य (भग )भी रुका रहता है ।  जो उठ खड़ा होता है, उसका सौभाग्य भी उसी प्रकार उठता है । जो मनुष्य पड़ा या सोया रहता है ,उसका सौभाग्य भी उसी प्रकार सो जाता है । और जो मनुष्य विचरण में लगा रहता है , उसका सौभाग्य भी चलने लगता है अर्थात आगे बढ़ता ही रहता है । इसीलिए विचरण करते रहो ।

  1. शांखायन या कोषीतकि ब्राह्मण-

यह ग्रंथ ऋग्वेद का ब्राह्मण ग्रंथ है । इसको कौषीतकि भी कहते हैं । इसके प्रणेता शांखायन या कौषितकि में से कोई एक हो सकते हैं । इसमें 30 अध्याय हैं । इसमें सौमयाग, अग्निहोत्र, दर्श पौर्णमास और चातुर्मास्य  आदि विषयों  का वर्णन है ।

  1. शतपथ ब्राह्मण –

यह शुक्ल यजुर्वेद का ब्राह्मण ग्रंथ है । इसके रचयिता याज्ञवल्क्य माने जाते हैं । सभी ब्राह्मण ग्रंथों में इसका महत्वपूर्ण स्थान है । यह ग्रंथ शुक्ल यजुर्वेद के दोनों शाखाओं काण्व व माध्यन्दिन से संबद्ध है । शतपथ ब्राह्मण में 14 कांड और 100 अध्याय हैं । इसी कारण इसका नाम “शतपथ” पड़ा । इसमें अग्निहोत्र ,चातुर्मास्य, अश्वमेध , राजसूय , वाजपेय , सर्वमेध तथा पुरुषमेध आदि का वर्णन किया गया है । गंधार ,कैकय , पांचाल , कोसल ,विदेह आदि जनपदों का उल्लेख मिलता है । राजा जनमेजय ,जनक ,दुष्यंत का उल्लेख मिलता है । इस ग्रंथ में पुरुरवा- उर्वशी , दुष्यंत पुत्र भरत , जल- प्लावन तथा मनु की कथाएं हैं । इस ग्रंथ में ऐतिहासिक तथ्य का पता चलता है । बौद्ध साहित्य में प्रयुक्त हुए पारिभाषिक शब्द श्रमण, अर्हत, प्रतिबुद्ध आदि शब्दों का प्रयोग इस ग्रंथ में मिलता है ।

  1. तैत्तिरीय ब्राह्मण-

यह ग्रंथ कृष्ण यजुर्वेदीय शाखा से संबंधित है ।  इसके रचयिता तित्तिरि ऋषि है । इसमें तीन कांड (अष्टक) में विभक्त हैं । प्रथम 2 कांडों में 8- 8 अध्याय (प्रपाठक) हैं तथा तृतीय कांड में 12 अध्याय (प्रपाठक) हैं । इस ब्राह्मण ग्रंथ के अनुसार मनुष्य का आचरण देवों के समान होना चाहिए ।  मन को सर्वोच्च प्रजापति बताया गया है । इसमें सोम ,राजसूय , सौत्रामणि ,  बृहस्पतिसव  नक्षत्रेष्टि आदि का मुख्य रूप से वर्णन किया गया है ।

  1. पंचविंश या तांड्य ब्राम्हण –

यह ब्राह्मण ग्रंथ सामवेद के तांड्य शाखा से संबंधित है । इसे तांड्य या प्रौढ़ ब्राह्मण ग्रंथ भी कहते हैं ।  इसके अतिरिक्त इस ग्रंथ को “महाब्राह्मण” भी कहते हैं । इसके रचयिता आचार्य तांड्य  हैं । इसमें 25 अध्याय है ।  इसका मुख्य प्रतिपाद्य विषय ‘ सोम याग ’ है ।

  1. षड् विंश ब्राह्मण –

यह ब्राह्मण ग्रंथ सामवेद के ‘ कौथुम शाखा ’ से सम्बंधित है । इसमें छ: अध्याय है । इसके अंतिम प्रपाठक को “अद्भुत ब्राह्मण” के नाम से जाना जाता है । इसमें भूकम्प , अकाल , उत्पातों की शांति आदि का वर्णन किया गया है । इस ब्राह्मण ग्रंथ को पंचविंश ब्राह्मण का परिशिष्ट कहा जाता है ।

  1. सामविधान ब्राह्मण –

यह ब्राह्मण ग्रंथ सामवेद से संबंधित है । यह 3 प्रकरण और 25 अनुवाको में विभक्त है । इस ब्राह्मण ग्रंथ में प्रजापति की उत्पत्ति ,देवों की निमित्त यज्ञ , कृच्छ्र तथा अति कृच्छ्र व्रतों का स्वरूप, पुत्र तथा ऐश्वर्य और आयुष्य की प्राप्ति के लिए विविध अनुष्ठान , अग्निहोत्र, अश्लील भाषण, चोरी, अगम्यागमन, स्वाध्याय,पिशाचों का वशीकरण, असिद्धी- विषयिणी परीक्षा, राज्याभिषेक प्रयोग, युद्ध विजय के निमित्त प्रयोग आदि पर प्रकाश डाला गया है ।

  1. आर्षेय ब्राम्हण-

यह ब्राह्मण ग्रंथ सामवेद से संबंधित है । इसमें सामवेद के ऋषियों से संबंद्ध विवरण है । सामवेदीय  ब्राह्मण ग्रंथों के मध्य इसका चतुर्थ स्थान है । आर्षेय ब्राह्मण में तीन प्रपाठक है । यह सामवेद की आर्षानुक्रमणी का कार्य करता है ।

  1. देवताध्याय ब्राह्मण –

यह ब्राह्मण ग्रंथ सामवेद से संबंधित ग्रंथ है । इसमें मात्र तीन खंड हैं ।  इसमें देवताओं और छंदों का वर्णन किया गया है ।

  1. छान्दोग्य (मंत्र) ब्राह्मण –  

यह ब्राह्मण ग्रंथ सामवेद से संबंधित है । इसे मंत्र ब्राह्मण के नाम से भी जाना जाता है । छांदोग्य ब्राम्हण में दो प्रपाठक और प्रत्येक में 8 खंड है ।

[नोट -छांदोग्य उपनिषद् भी है इसमें 8 प्रपाठक है । यदि दोनों को मिला दिया जाए तो प्रपाठकों की संख्या 10 हो जायेगी । परंतु हमें यहां छांदोग्य ब्राह्मण के संदर्भ में जानना है ।]

  1. संहितोपनिषद् ब्राह्मण –

यह ब्राह्मण ग्रंथ सामवेद से संबंधित है । यह बहुत छोटा ग्रंथ है । इसमें एक प्रपाठक है , जो पांच खंडों का है । इस ग्रंथ में सामगान की पद्धति का वर्णन किया गया है ।

  1. वंश ब्राह्मण –

यह ब्राह्मण ग्रंथ सामवेद से संबंधित है । इसमें तीन खंड हैं  । इस ग्रंथ में ऋषियों और आचार्यों की वंश परंपरा का वर्णन किया गया है ।

  1. गोपथ ब्राह्मण –

यह अथर्ववेद का एकमात्र ब्राह्मण ग्रंथ है । इसके रचयिता ऋषि गोपथ को माना गया है । इस ग्रंथ के दो भाग हैं ।

  1. पूर्व भाग या पूर्व गोपथ – इसमें पांच प्रपाठक या अध्याय हैं ।
  2. उत्तर भाग या उत्तर गोपथ – इसमें छ: प्रपाठक या अध्याय हैं । गोपथ ब्राह्मण के पूर्व भाग में ऊंकार तथा गायत्री की महिमा का वर्णन , ऋत्विजों के कार्य व उनकी दीक्षा, ब्रह्मचारी के कर्तव्य , संवत्सर सत्र, अश्वमेध, पुरुषमेध अग्निष्टोम आदि का वर्णन किया गया है । इसके उत्तर भाग में विभिन्न प्रकार के यज्ञों और उनसे संबंध आख्यायिकाओं का वर्णन है । गोपथ ऋषि ने चारों वेदों में अथर्ववेद को महत्वपूर्ण माना है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

वेबसाइट के होम पेज पर जाने के लिए क्लिक करे

Donate Now

Please donate for the development of Hindi Language. We wish you for a little amount. Your little amount will help for improve the staff.

कृपया हिंदी भाषा के विकास के लिए दान करें। हम आपको थोड़ी राशि की कामना करते हैं। आपकी थोड़ी सी राशि कर्मचारियों को बेहतर बनाने में मदद करेगी।

[paytmpay]