विभक्ति का सामान्य परिचय –

विभक्तियों का ज्ञान होना आवश्यक है | विभक्तियों के ज्ञान से अनुवाद तथा अशुद्ध वाक्यों को शुद्ध करने में सहायता मिलती है |संस्कृत में इसके लिये नियम बने हुए हैं , जिनका संक्षिप्त परिचय निम्न लिखित है –

प्रथमा विभक्ति –

(1) सूत्र – प्रातिपादिकार्थ- लिंग –परिमाण –वचनमात्रे प्रथमा |
अर्थ – प्रातिपादिक अर्थ ,लिंग मात्र ,परिमाण मात्र और वचन मात्र में प्रथमा विभक्ति का प्रयोग होता है |


नोट – सम्बोधन में भी प्रथमा विभक्ति का प्रयोग होता है |

उदाहरण – उच्चै:, नीचै:, राम:, कृष्ण:, ज्ञानम्, तट, तटी, तटम्, एक:, द्वौ, बहव:, हे राम, हे कृष्ण,


2 responses to “विभक्ति परिचय”

  1. 7081281467
    Hindi gya Ganga

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

वेबसाइट के होम पेज पर जाने के लिए क्लिक करे

Donate Now

Please donate for the development of Hindi Language. We wish you for a little amount. Your little amount will help for improve the staff.

कृपया हिंदी भाषा के विकास के लिए दान करें। हम आपको थोड़ी राशि की कामना करते हैं। आपकी थोड़ी सी राशि कर्मचारियों को बेहतर बनाने में मदद करेगी।

[paytmpay]