हिंदी : महत्त्वपूर्ण सूत्रात्मक ज्ञान / तथ्य / वचन / अवधारणा –

  • प्रसिद्ध आरती ‘ ओम जय जगदीश हरे ’ पंजाब के संस्कृत एवं हिंदी के विद्वान श्रद्धाराम फुल्लौरी द्वारा लिखा गया है | इनके द्वारा लिखा गया ग्रंथ ‘ भाग्यवती ’ उपन्यास तथा ‘ सत्यामृत प्रवाह ’ धार्मिक पुस्तक है |

  • अमीर खुसरो [ 1255 ई. – 1324 ई. ] को हिंदी खड़ी बोली को काव्यभाषा के रूप में प्रथम प्रयोगकर्ता कहा जा सकता है | खुसरो की पहेलिया लोक प्रसिद्ध है |

  • अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’[ 1865ई. -1947ई. ] द्वारा लिखित ‘ प्रियप्रवास ’ हिंदी खड़ी बोली का आधुनिक काल का प्रथम महाकाव्य है |

  • खड़ी बोली का अन्य नाम ‘ कौरवी ’ तथा हरियाणवी का अन्य नाम ‘ बांगरू ’ के नाम से भी जाना जाता है |

  • “अपभ्रंश का वाल्मीकि ” स्वयंभू को कहा जाता है |

  • प्रथम सूफी प्रेमाख्यानक कवि मुल्ला दाऊद है | जिनकी रचना ‘ चंदायन ‘ है | जिसका रचनाकाल 1379 ई. है | इस रचना के नायक लोर ( लोरिक ) एंव नायिका चंदा का प्रेम वर्णन किया गया है |

  • ऋग्वेद संस्कृत का प्राचीनतम ग्रंथ है | इस ग्रंथ में 10 मण्डल ,1028 सूक्त एंव 10580 ऋचाएँ है | देवताओं की स्तुतियों से सम्बंधित श्लोक है |

  • अथर्ववेद में जादू – टोने , मंत्र –तंत्र ,टोने –टोटके आदि का वर्णन किया गया है |

  • यजुर्वेद की दो शाखा है – दक्षिण भारत में प्रचलित कृष्ण यजुर्वेद तथा दूसरी उत्तर भारत में प्रचलित शुक्ल यजुर्वेद | इसमें यज्ञ की प्रक्रिया के लिए गद्य एवं पद्य में मंत्र है |

  • सामवेद गीत संगीत प्रधान वेद है | सभी वेदों में आकार की दृष्टि से सबसे छोटा है | इसमें 1875 मंत्रों में 69 को छोड़कर सभी ऋगवेद से लिए गये है | इसकी प्रशंसा में गीता में श्री कृष्ण  कहते है कि – वेदानां सामवेदोsस्मि आर्थात् वेदों में मैं सामवेद हूँ |

  • संस्कृत भाषा का सबसे बड़ा व्याकरण ग्रंथ ‘ अष्टाध्यायी ’ है | जिसे महर्षि पाणिनि ने लिखा है |

  • बौद्ध धर्म का प्रमुख ग्रंथ ‘ त्रिपिटक ’ है | यह ‘ पालि ’ भाषा में लिखा गया है | ‘ त्रिपिटक ’ के तीन भाग हैं – (i) सुत्त पिटक (ii) विनय पिटक (iii) अभिधम्म पिटक |

  • हेमचंद्र ने ‘ प्राकृत व्याकरण ’ की रचना की है |इन्हे प्राकृत के पाणिनि की संज्ञा दी जाती है |

  • अपभ्रंश के महान कवि स्वयंभू हैं |

  • “ वाक्यं रसात्मकं काव्यम् ” ( रस युक्त वाक्य काव्य है ) , आचार्य विश्वनाथ ने काव्य लक्षण की परिभाषा देते हुए कहा था | इनकी प्रसिद्ध काव्य शास्त्र की पुस्तक ‘ साहित्य दर्पण ’ है |  

  • “ शब्दार्थौ सहितौ काव्यम् ” संस्कृतके प्रसिद्ध कवि भामा द्वारा कहा गया है |

  • संतन को कहा सीकरी सों काम , आवत जात पनहियाँ टूटी , बिसरि गयो हरि नाम | यह पद अष्टछाप के प्रसिद्ध कवि कुम्भन दास द्वारा रचित है |

  • घनानंद की प्रसिद्ध उक्ति है – “ अति सूधो सनेह को मारग है ,जहाँ नैकु समापन बांक नहीं ” |

  • “नहि पराग नहिं मघुर मधु नहिं विकास इहि काल | अली कली ही सौं विंध्यौ आगे कौन हवाल” ||यह दोहा बिहारी द्वारा रचित राजा जयसिंह के लिए कहा गया है |

  • “ तू कहता कागज की लेखी ,मैं कहता आखिन की देखी “| नामक प्रसिद्ध उक्ति कबीर दास द्वारा कही गई है |          

  • सूफी मान्यता के अनुसार इश्क मजाजी ( लौकिक प्रेम ) के द्वारा इश्क हकीकी ( ईश्वरीय प्रेम ) को पाया जा सकता है | सूफी मत के अनुसार हक ( ईश्वर ) तक पहुँचने के लिए चार मुकामात ( मंजिलें ) पार करनी पड़ती है , जिनके नाम हैं – शरीयत , तरीकत ,हकीकत , मारिफत | इन्हे पार करके वह परमात्मा से एकाकार हो जाती है |

  • खेती न किसान को भिखारी को न भीख बलि,

    बनिक को बनिज न चाकर को चाकरी ||

  •    महाकवि तुलसीदास की यह प्रसिद्ध पंक्ति ‘ कवितावली ’ से ली गयी है |

  • रीतिकाल को विश्वनाथ प्रसाद मिश्र ने ‘श्रृंगार काल ’ तथा मिश्रबंधु ने ‘ अलंकृत काल ’ कहा है |

  • ‘ मिश्रबंधु विनोद ’ ( 4 भाग ) के रचनाकार मिश्रबंधु हैं | ये तीनों सहोदर भाई थे , जिनके नाम हैं – गणेश बिहारी मिश्र , श्याम बिहारी मिश्र , सुकदेव बिहारी मिश्र | कोई भी रचना ये तीनों भाई मिल कर करते थे |

  • ‘ कबीर वाणी के डिक्टेटर थे ’ यह प्रसिद्ध कथन हजारी प्रसाद द्विवेदी जी द्वारा कहा गया है |

  • जदपि सुजाति सुलच्छनी सुबरन सरस सुवृत्त |

          भूषण बिनु न विराजई कविता बनिता मित्त ||

         यह प्रसिद्ध दोहा अलंकार वादी आचार्य केशव दास द्वारा रचित है |

  • बिहारीलाल के विषय में दो उक्तियाँ बहुत प्रसिद्ध हैं |

  • गागर में सागर भरना | 

  • सतसैया के दोहरे ज्यों नावक के तीर |

          देखन में छोटे लगे घाव करै गम्भीर ||

  • “ आध्यात्मिक रंग के चश्में आजकल बहुत सस्ते हो गये हैं ,उन्हे चढ़ाकर कुछ लोगों को गीत गोविंद ( जयदेव ) के पदों में आध्यात्मिकता दिखती है , वैसे ही ‘ पदावली ’( विद्यापति) के पदों में | – यह कथन रामचंद्र शुक्ल का है |

  • पंडित सअल सत्त बक्खाणइ , देहहि बुद्ध बसंत न जाणइ |, यह काव्य पंक्ति सरहपा की है |

  • ‘ वर्णरत्नाकर ’मैथिली भाषा का प्राचीनतम उपलब्ध ग्रंथ है |

  • “ बालचंद बिज्जावइ भाषा , दुहु नहि लग्गइ दुज्जन हासा ” यह पंक्ति विद्यापति की है |

  • हिंदी काव्य में भ्रमर गीत का मूल स्रोत “ श्रीमद् भागवत पुराण ” के दशम् स्कंध के 46 व 47वें अध्याय से है |

  • हिंदी भारोपीय परिवार की भाषा है |

  • 14 सितम्बर को हिंदी दिवस तथा 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है |

  • सांस्कृतिक जागरण सम्बंधि संस्थाएँ

संस्था

संस्थापक

स्थापना वर्ष

आर्य समाज

दयानंद सरस्वती

1875 ई.

प्रार्थना समाज

केशवचंद्र सेन

1867 ई.

रामकृष्ण मिशन

स्वामी विवेकानंद

1897 ई.

ब्रह्म समाज

राजा राम मोहन राय

1828 ई.

थियोसोफिकल सोसायटी

मैडम ब्लावात्सकी और कर्नल अल्कॉट

1875 ई.

  • ‘ निज भाषा उन्नति अहै , सब उन्नति को मूल

            बिन निज भाषा ज्ञान के, मिटत न हिय को सूल ’

            यह पंक्ति भारतेंदु हरिश्चंद्र जी की है |

  • संदेश नहीं मैं यहा स्वर्ग का लाया ,

         इस भूतल को ही स्वर्ग बनाने आया |

         उपरोक्त काव्य पंक्ति मैथिलीशरण गुप्त द्वारा लिखित ‘ साकेत ’ का अंश है |

  • मै ढूँढता तुझे था , जब कुंज और वन में |

             तू खोजता मुझे था, तब दीन के सदन में ||

              तू ‘ आह ’ बन किसी की , मुझको पुकारता था |

               मैं था तुझे बुलाता , संगीत के भजन में ||

              उपरोक्त काव्य पंक्तियों के रचनाकार रामनरेश त्रिपाठी जी है |

  • जिसको नहीं गौरव तथा निज देश का अभिमान है |

           वह नर नहीं नर – पशु निरा है ,और मृतक समान है |

        उपरोक्त काव्य पंक्ति के रचनाकार मैथिलीशरण गुप्त जी है |

  • अपभ्रंश और राजस्थानी भाषा के मेल से बनी भाषा को डिंगल भाषा तथा अपभ्रंश और ब्रजभाषा के मेल से बनी भाषा को पिंगल भाषा का नाम दिया गया है |

  • राहुल सांकृत्यायन ने 7वीं शताब्दी के कवि सरहपाद को हिंदी का पहला कवि माना है |

  • प्लेटो प्रत्ययवाद के प्रवर्तक थे | प्लेटो की प्रसिद्ध रचना ‘ रिपब्लिक ’ है |

    • अष्टछाप की स्थापना सन् 1565 ई. में हुई | अष्टछाप के आठ कवियों में चार वल्लभाचार्य के शिष्य और चार गोसाई विट्ठलनाथ के शिष्य थे | वल्लभाचार्य के शिष्य – सूरदास, कृष्णदास ,परमानंद दास , कुम्भनदास , गोसाई विट्ठलनाथ के शिष्य – गोविंदस्वामी , छीतस्वामी , चतुर्भुजदास ,नन्ददास |

    • “ भ्रमरगीत सूर साहित्य का मुकुटमणि है | यदि वात्सल्य और श्रृंगार के पदों को निकाल दिया जाए तो हिंदी साहित्य में सूर का नाम अमर रखने के लिए भ्रमरगीत ही काफी है | ” यह कथन आचार्य रामचंद्र शुक्ल जी का है |

    • अब कैसे छुटे राम नाम रट लागी |

    प्रभु जी तुम  चंदन हम पानी जाकी अंग अंग बास समानी ||  

    यह पद रैदास ( रविदास ) जी का है |

    • परमाल रासो का अन्य नाम ‘ आल्हखंड ’ भी है |

    • “ कावा तरुवर पंच विडाल , चंचल चीए पइठो काल ” यह पंक्ति सिद्ध कवि लुइपा का है |

    • “ विभावनुभावव्यभिचारी संयोगाद्रसनिष्पत्ति:” रस के सम्बंध में इस रससूत्र को आचार्य भरतमुनि ने दिया है |

    • कबीर के राम अयोध्या के राजा दशरथ के राम नहीं हैं | कबीर ने जब भी राम शब्द का वाचन किया है ,वहाँ राम से तात्पर्य ब्रह्म से है | जो सृष्टि का नियंता है | परमसत्ता की तरफ इशारा है | स्वंय को जानना ब्रह्मरूप होना कबीर के राम की ओर संकेत है |

    • ‘ आँसू’ जयशंकर प्रसाद जी का प्रसिद्ध विरह काव्य है |

    • अभिव्यंजनावाद के प्रवर्तक क्रोचे हैं |

    • ‘ कुकुरमुत्ता – 1914 ई., सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की बहुचर्चित एक हास्यव्यंग मूलक कविता है | इसमें पूँजीपतियों पर तीखा व्यंग किया गया है |

    • उर्दू के प्रमुख लेखकों व शायरों के नाम – गालिब , जाफर ,फिराख गोरखपुरी , मोहम्मद इकबाल आदि |

    • तरनि तनूजा तट तमाल तरुवर बहु छाए ,

    झुके कूल सों जल परसन हित मनहुँ सुहाए |

    यह पंक्ति भारतेंदु हरिश्चंद्र जी की है |

    • चंदबरदाई द्वारा लिखित महाकाव्य ‘ पृथ्वीराजा रासो ’ में 69 समय ( सर्ग) है | पृथ्वीराज के राजकवि चंदबरदाई थे |

    • विद्यापति को ‘ मैथिली का कोकिल ’ कहा जाता है |

    • राजभाषा का प्रावधान संविधान की धारा 343 से 351 के अनुच्छेदों में वर्णित है | भारतीय संविधान के अनुच्छेद 343 में संघ की राजभाषा के रूप में हिंदी व देवनागरी को लिपि के रूप में मान्यता मिली | 14 सितम्बर सन् 1949 ई. को हिंदी को राजभाषा के रूप में मान्यता प्रदान की गयी | इसी कारण 14 सितम्बर को प्रतिवर्ष हिंदी दिवस मनाया जाता है |

    • आठवीं अनुसूची की भाषाएँ है – आसमिया , उड़िया , उर्दू , कन्नड़ , कश्मीरी , गुजराती ,तमिल , तेलुगू, पंजाबी , बांग्ला , मराठी , मलयालम , संस्कृत , सिंधी , हिंदी ,नेपाली , कोंकणी, मणिपुरी , बोडो, संथाली ,डोगरी , मैथिली |

    • ‘ ईरानी महाभारत काल से ही भारत को हिंद कहने लगे थे |” यह कथन पं. रामनरेश त्रिपाठी जी का है |

    • विश्व की भाषाओं को मुख्यत: 12 भाषा परिवारों में विभक्ति किया गया है |हिंदी भारोपिय भाषा परिवार की भाषा है | भारतीय आर्य भाषाएँ भारोपीय परिवार की भाषा है |

    • विद्वानों ने वैदिक ध्वनियों की संख्या 52 मानी है | जिसमें 13 स्वर तथा 39 व्यंजन वर्ण हैं |

    • प्रथम प्राकृत भाषा ‘ पालि ’ को कहा जाता है |

    • हिंदी भाषा में दो लिंग है – (i) पुल्लिंग (ii) स्त्रीलिंग

    • हिंदी भाषा में दो वचन होते है – (i)एकवचन (ii) बहुवचन

    • हिंदी भाषा में कारक के आठ भेद होते हैं , – जो इस प्रकार है |

    क्र. सं.

    कारक

    कारक चिह्न

    1

    कर्त्ता कारक

    ने

    2

    कर्म कारक

    को

    3

    करण कारक

    से, के द्वारा

    4

    सम्प्रदान कारक

    के लिए , के हेतु ,के वास्ते

    5

    अपादान कारक

    से ( अलग होने के अर्थ में )

    6

    सम्बंध कारक

    का, की, के, रा, री, रे, ना, नी, ने

    7

    अधिकरण कारक

    में , पै, पर

    8

    सम्बोधन कारक

    अरे! हे! सुनो ! आदि

    • संज्ञा के पाँच भेद हैं – (i) व्यक्तिवाचक संज्ञा (ii) जातिवाचक संज्ञा (iii) भाववाचक संज्ञा (iv) समूह वाचक संज्ञा (v) द्रव्यवाचक संज्ञा

    • सर्वनाम के भेद – प्रयोग के आधार पर सर्वनाम के छ: भेद है – (i) पुरूष वाचक सर्वनाम (ii) निश्चय वाचक सर्वनाम (iii) अनिश्चय वाचक सर्वनाम (iv) सम्बंधवाचक सर्वनाम (v) निजवाचक सर्वनाम (vi) प्रश्नवाचक सर्वनाम

    • विशेषण के चार प्रमुख भेद निम्न है – (i) गुणवाचक विशेषण (ii) परिमाण वाचक विशेषण (iii) संख्यावाचक विशेषण (iv) सार्वनामिक विशेषण

    • रचना के आधार पर क्रिया के मुख्यत: दो भेद है – (i) सकर्मक क्रिया (ii) अकर्मक क्रिया

    अर्थ के आधार पर क्रिया के भेद – अर्थ की दृष्टि से क्रिया के निम्न भेद है – (i) सहायक क्रिया  (ii) संयुक्त क्रिया (iii) नामबोधक क्रिया (iv) पूर्वकालिक क्रिया (v) क्रियार्थक क्रिया (vi) प्रेरणार्थक क्रिया |

    • रचना के आधार पर वाक्य के तीन भेद है –(i) सरल वाक्य (ii) मिश्र वाक्य (iii) संयुक्त वाक्य

    अर्थ के आधार पर वाक्य आठ प्रकार के होते है –(i) विधिवाचक वाक्य (ii) निषेधवाचक वाक्य (iii) आज्ञावाचक वाक्य (iv) विस्मयवाचक वाक्य (v) संदेहवाचक वाक्य (vi) इच्छावाचक वाक्य (vii) संकेतवाचक वाक्य (viii) प्रश्नवाचक वाक्य |

    • समास के छ: भेद है – (i) अव्ययीभाव समास (ii) तत्पुरूष समास (iii) कर्मधारय समास (iv) व्दिगु समास (v) द्वंद्व समास (vi) बहुब्रीहि समास

    • ‘ दोहा ’ या ‘ दूहा ’ अपभ्रंश भाषा का लोकप्रिय छंद रहा है |

    राहुल सांस्कृत्यायन ने सरहपाद को हिंदी का प्रथम कवि माना है | लेकिन सरहपाद का कोई भी ग्रंथ उपलब्ध नहीं है | मुक्तक के रूप में पाये जाते है | हिंदी की प्रथम रचना के रूप में जैन आचार्य देवसेन कृत ‘ श्रावकाचार ’ नामक रचना का उल्लेख किया जा सकता है | इसमें 250 दोहों में श्रावक धर्म का वर्णन किया जा सकता है | इस ग्रंथ की रचना 933 ई. में हुई, जो दोहा छंद में है |

  • आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने ‘ रासो ’ शब्द की व्युत्पत्ति ‘ रसायण ’ शब्द से मानी है | जिसके सम्बंध में उन्होने नरपति नाल्ह की रचना ‘ बीसलदेव रासो ’ को आधार बनाया है | बीसलदेव रासो की पंक्ति निम्न है –

  • बारह सौ बहोतरां मझारि, जेठ बदी नवमी बुधवारि |

    नाल्ह रसायण आरम्भई शारदा तूठी ब्रह्म कुमारि ||

        ‘ रासो ’ शब्द की व्युत्पत्ति के सम्बंध में अनेक विद्वानों ने भिन्न -भिन्न तर्क दिये है | जो इस प्रकार है –

    फ्रांसीसी विद्वान गार्सा- द- तासी ने रासो शब्द की व्युत्पत्ति ‘ राजसूय ’ शब्द से बताने की कोशिश की है |

        पं. हरिप्रसाद शास्त्री ने रासो शब्द की व्युत्पत्ति ‘ राजयश ’ अथवा ‘ रहस्य ’ से मानी है |

    डॉ. रामकुमार वर्मा और आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी ने  रासो शब्द की व्युत्पत्ति ‘ नाट्यरासक ’ से माना है |

        डॉ. नरोत्तम स्वामी जी ने रासो शब्द की व्युत्पत्ति राजस्थानी भाषा के ‘ रसिक ’ शब्द से मानते है |

        आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी ने रासो शब्द की व्युत्पत्ति ‘ रस ’ शब्द से माना है |

    • दलपति विजय ने ‘ खुमाण रासो ’ की रचना की थी |आचार्य रामचंद्र शुक्ल के अनुसार इनका रचनाकाल 9वीं शताब्दी है | इनकी भाषा राजस्थानी हिंदी है | काव्यात्मक सरस वर्णन का एक उदाहरण निम्न है –

    पिव चित्तौड़ न आविऊ,सावण पहिली तीज |

    जोवे बाट बिरहिणी खिण खिण अगवै खीज ||

    संदेसो पिण साहिबा , पाछो फिरिय न देह |

    पंछी धाल्या पिंजरै छूटण रो संदेह ||

    • अमीर खुसरो का जन्म 1255 ई. में उत्तर प्रदेश के एटा जिले के पटियाली गाँव में हुआ था | खुसरो अलाउद्दीन के दरबारी कवि एवं निजामुद्दीन औलिया के शिष्य थे | इनकी मृत्यु 1324 ई. में हुई थी | इनके ग्रंथों की संख्या 100 बताई जाती है | परंतु 20-21 ग्रंथ ही उपलब्ध है | इनकी प्रसिद्ध रचनाएँ है – पहेलियाँ, मुकरियाँ , खालिकबारी, दो सखुने , गजल आदि | अमीर खुसरो को हिंदी खड़ी बोली का प्रथम कवि माना जाता है | खुसरो जी को “ तोताएँ हिंद ” या “ हिंद की तूती ” कहा जाता है | खुसरो की प्रमुख पहेलियाँ और मुकरियाँ इस प्रकार है –

    • स्याम बरन की है एक नारी

         माथे ऊपर लागै प्यारी |

         जो मानुस इस अरथ को खोले ,

        कुत्ते की वह बोली बोले | ( उत्तर – भौं )

    • गोल-मटोल और छोटा-मोटा

    हरदम वह तो जमीं पर लोटा |

    खुसरो कहे नहीं है झूठा ,

    जो न बुझे अकिल का खोटा ||( उत्तर – लोटा)

    • एक गुनी ने यह गुन कीना ,

    हरियल पिंजरे में दे दीना |

    देखा जादूगरका हाल ,

    दाले हरा निकाले लाल || ( उत्तर – पान )

    • आगे – आगे बहिना आई ,

    पीछे – पीछे भईया |

    दाँत निकाले बाबा आए ,

    बुरका ओढ़े मइया || ( उत्तर –भुट्टा )

    • लिपट – लिपट के वा के सोई ,

    छाती से छाती लगा के रोई |

    दाँत से दाँत बजे तो ताड़ा ,

    ऐ सखि साजन ? ना सकि जाड़ा ||

    • सेज पड़ी मोरे आँखों आए ,

    डाल सेज मोहे मजा दिखाए |

    किससे कहूं अब मजा में अपना ,

    ऐ सखि साजन ? ना सखि सपना | |

    • हिंदी भाषा में पहेली शब्द संस्कृत के “ प्रहेलिका ” शब्द का अपभ्रंश या तद्भव रूप है |

    • भक्ति का सर्वप्रथम उल्लेख उपनिषद् में मिलता है | भक्ति भावना मूलत: दक्षिण भारत में उत्पन्न हुई | भक्ति आंदोलन की पृष्ठभूमि तैयार करने में कुछ प्रमुख आचार्यों का योगदान रहा है | जिसमें प्रमुख रूप से मध्वाचार्य, रामानंद, वल्लभाचार्य ,नामदेव ,जयदेव आदि रहे हैं |

    • आलवार संतो का परिचय- आलवार तमिल कवि एवं संत थे | दक्षिण भारत में भक्ति परम्परा 6वीं शताब्दी से चली आ रही है | आलवार वस्तुत: वैष्णवों का तमिल नाम है | दक्षिण भारात में वैष्णव भक्तों को आलवार भक्तों के नाम से जाना जाता है | आलवार का तमिल अर्थ है – भगवान में डूबा हुआ |आलवार संत भक्ति आंदोलन के जन्मदाता माने जाते है | आलवार संतों का मुख्य उद्देश्य जनमानस में भक्ति भाव को जगाना व आस्तिकता का प्रचार – प्रसार करना था | आलवार संतों की संख्या 12 थी | इन्होने घोषणा किया कि भगवान की भक्ति करने का अधिकार समान रूप से सभी को है इसमें कुछ आलवार निम्न जाति के भी थे | इन्होने समस्त तमिल प्रदेश में पदयात्रा कर भक्ति का प्रचार किया |इनके पदों का संग्रह ‘ दिव्य प्रबंधम् ’ के नाम से जाना जाता है | जिससे लगभग 4000 पद है | इसमें भक्ति और ज्ञान का अनमोल भण्डार है | इनके पद वेदों के तुल्य माना जाता है | प्रमुख आलवार भक्तों की संख्या 12 है , जो निम्न प्रकार है :-

    • पोरगे आलवार

    • भूक्तालवार

    • मयालवार

    • तिरुमालिसै आलवार

    • नम्मालवार

    • मधुरकवि आलवार

    • कुलशेखरालवार

    • पेरियालवार

    • अण्डाल

    • तांण्डरडिप्पोडियालवार

    • तिरुरपाणोलवार

    • तिरूमगैयालवार        

      

    • विविध संप्रदाय – भक्तिकालीन विभिन्न संप्रदाय और उनके प्रवर्तक आचार्यों का संक्षिप्त परिचय-

    संप्रदाय का नाम

    प्रवर्तक आचार्य

    दार्शनिक मत विशेषता

    रामावत संप्रदाय

    रामानंद

    ज्ञान मार्ग का उपदेश

    श्री संप्रदाय

    रामानुजाचार्य

    विशिष्ट अद्वैत सिद्धांत

    ब्रह्म संप्रदाय

    माधवाचार्य

    द्वैतवाद(भगवान विष्णु 8 गुणों से युक्त)

    रुद्र संप्रदाय

    श्री विष्णु स्वामी

    शुद्धाद्वैत

    रसिक सम्प्रदाय या सनकार्दि(निम्बार्क सम्प्रदाय )

    निम्बार्काचार्य

    भेदाभेदवाद या द्वैताद्वैतवाद

    वल्लभ सम्प्रदाय

    वल्लभाचार्य

    शुद्धाद्वैत

    राधावल्लभ सम्प्रदाय

    स्वामी हितहरिवंश

    प्रेम को भक्ति का मूलाधार माना है |

    सखी सम्प्रदाय या हरिदासी सम्प्रदाय

    स्वामी हरिदास

    उपास्थ देव निकुंजबिहारी है |

    चैतन्य सम्प्रदाय या गौड़ीय सम्प्रदाय

    चैतन्य महाप्रभु

    ऊंच – नीच की भावना को समाप्त करने एवं हिन्दू –मुस्लिम एकता पर बल दिया |

    • सूफी संप्रदाय और उनके प्रचारक- 

    प्रमुख सूफी संप्रदायों का संक्षिप्त परिचय-   भारत में सूफी मत का आगमन 10वीं शताब्दी में हुआ।

    संप्रदाय –

    संप्रदाय के प्रमुख प्रचारक

    चिश्ती संप्रदाय

    ख्वाजा मुइनुद्दीन चिश्ती

    कादरी संप्रदाय

    अब्दुल कादिर

    सुहरावर्दी संप्रदाय

    बहाउद्दीन जकरिया

    नक्शबंदी संप्रदाय

    अहमद फारुखी

    सत्तारी संप्रदाय

    अब्दुल्लाह सत्तारी

    • रामानंद के गुरु राघवानंद थे । भक्तमाल के अनुसार रामानंद के 12 शिष्य प्रसिद्ध हैं  | जिनके नाम हैं –

    अनंतानंद ,सुखानंद, सुरसुरानंद , भावानंद , नरहर्यानंद, पीपा , कबीर ,धन्ना, रैदास, सेना ,सुरसुरी, पद्मावती ।

    *  मलिक मोहम्मद जायसी की रचना ‘ आखरी कलाम ’  में कयामत का वर्णन किया गया है ।

    *  कृष्ण काव्य धारा के कवि नंददास की कृति “रास पंचाध्यायी” अन्य कृतियों में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। नंददास को ‘ जड़िया ’  कवि कहा जाता है ।

    *  रीतिकाल का नामकरण-   विभिन्न विद्वानों के अनुसार रीतिकाल का नामकरण निम्नलिखित है-

    विद्वान

    रीतिकाल के नाम

    मित्र बंधु

          अलंकृत काल

    विश्वनाथ प्रसाद मिश्र

    श्रृंगार काल

    भगीरथ मिश्र व रमाशंकर शुक्ल ‘रसाल’

    कलाकाल

    जॉर्ज ग्रियर्सन व आचार्य रामचंद्र शुक्ल

    रीतिकाल

    * रीतिकालीन कवियों में बिहारी का स्थान सर्वश्रेष्ठ है । बिहारी की एकमात्र रचना “ बिहारी सतसई ” ने उन्हें हिंदी साहित्य में सर्वोच्च स्थान पर विराजमान कर दिया है । कुल दोहों  की संख्या 713 है ।

    * रीतिकालीन ओजस्वी कवि भूषण को ‘भूषण’  की उपाधि चित्रकूट के राजा रूद्रसाह सोलंकी ने प्रदान की थी ।

    *  ब्रजभाषा गद्य की प्रारंभिक रचनाएं व उनके रचनाकार

    रचनाकार

    रचनाएं

    गोसाईं विट्ठलनाथ

    श्रृंगार रस मंडन

    गोकुलनाथ

    चौरासी वैष्णवन की वार्ता, दो सौ बावन  वैष्णवन की वार्ता

    नाभादास

    अष्टयाम

    बैकुंठ मणि शुक्ल

      अगहन महात्म्य , वैशाख महात्म्य

    सुरती मिश्र

    बैताल पचीसी

    * भारतेंदु हरिश्चंद्र और उनके मंडल के कवियों और लेखकों में गद्य के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई । भारतेंदु मंडल के कवि हैं -भारतेंदु हरिश्चंद्र, प्रताप नारायण मिश्र, ठाकुर जगमोहन सिंह ,बालमुकुंद गुप्त ,अंबिकादत्त व्यास, राधा कृष्ण दास ।

    * “जपो निरंतर एक जबान, हिंदी हिंदू हिंदुस्तान” इस पंक्ति के रचनाकार प्रताप नारायण मिश्र जी हैं ।

    * अयोध्या सिंह उपाध्याय “हरिऔध”  की रचना “प्रियप्रवास”  हिंदी खड़ी बोली का प्रथम महाकाव्य है | रचनाकाल 1914 ई.  है ।

    *  द्विवेदी युग के प्रमुख कवि हैं   –    महावीर प्रसाद द्विवेदी,  अयोध्या सिंह उपाध्याय “हरिऔध” ,  मैथिलीशरण गुप्त ,रायदेवीप्रसाद ‘पूर्ण’,  रामचरित उपाध्याय,  गया प्रसाद शुक्ल सनेही,  नाथूराम शर्मा शंकर आदि ।

    * छायावाद के चार आधार स्तंभ कवि हैं   –   जयशंकर प्रसाद, सुमित्रानंदन पंत ,सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ ,महादेवी वर्मा |

    * छायावाद की परिभाषा विभिन्न विद्वानों के अनुसार-

    महादेवी वर्मा के अनुसार -“छायावाद तत्वत:  प्रकृति के बीच जीवन का उद्गीत है । “

    आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी के अनुसार -“छायावाद के मूल में पाश्चात्य रहस्यवादी भावना अवश्य थी | इस रहस्यवाद की मूल प्रेरणा अंग्रेजी की रोमांटिक भाव धारा की कविता से प्राप्त हुई थी । “

    जयशंकर प्रसाद के अनुसार -“कविता के क्षेत्र में पौराणिक युग की किसी घटना अथवा देश-विदेश की सुंदरता के बाह्य वर्णन से भिन्न जब वेदना के आधार पर स्वानुभूतिमयी अभिव्यक्ति होने लगी ,तब हिंदी में उसे छायावाद के नाम से अभिहित किया गया ।  ध्वन्यात्मक , लाक्षणिकता, सौंदर्यमय  प्रतीक विधान तथा उपचार के साथ सहानुभूति की विवृत्ति छायावाद की विशेषताएं हैं ।”

    डॉ रामकुमार वर्मा के अनुसार-“परमात्मा की छाया आत्मा में , आत्मा की छाया परमात्मा में पड़ने लगती है , तब छायावाद की सृष्टि होती है । “

    आचार्य नंददुलारे वाजपेयी के अनुसार– ” मानव तथा प्रकृति के सूक्ष्म किंतु व्यक्त सौंदर्य में आध्यात्मिक छाया का भाव छायावाद की सर्वमान्य व्याख्या हो सकती है ।”

    डॉ नागेंद्र के अनुसार-“छायावाद स्थूल के प्रति सूक्ष्म का विद्रोह है | यह एक विशेष प्रकार की भाव पद्धति है ,जीवन के प्रति विशेष भावात्मक दृष्टिकोण है । “

    आचार्य रामचंद्र शुक्ल के अनुसार-” छायावाद शब्द का प्रयोग दो अर्थों में समझना चाहिए, एक तो रहस्यवाद के अर्थ में जहां उसका संबंध काव्य वस्तु से होता है अर्थात जहां कवि उस अनंत और अज्ञात प्रियतम को आलंबन बनाकर अत्यंत चित्रमयी भाषा में प्रेम की अनेक प्रकार से व्यंजना करता है ———–छायावाद का दूसरा प्रयोग काव्य शैली या पद्धति विशेष के व्यापक अर्थ में है । “

    *  ‘जूही की कली’ निराला की प्रथम रचना मानी जाती है ‘राम की शक्ति पूजा ‘,’ तुलसीदास ‘ एवं ‘सरोज स्मृति’ उत्कृष्ट रचना है ।

    * सुमित्रानंदन पंत “प्रकृति के सुकुमार कवि”  कहे जाते हैं | बाद में अरविंद दर्शन से प्रभावित होकर पंत ने दो प्रमुख रचनाएं हिंदी साहित्य को दी हैं जो हैं-‘स्वर्ण किरण’ ,’स्वर्ण धूलि’ । दोनों काव्य संकलनों में अंतश्चेतना वाद  से प्रभावित  कविताएं हैं । अरविंद दर्शन में भौतिकवाद और अध्यात्मवाद का समन्वय किया गया है  | पंत जी को सन 1968 ई. में “चिदंबरा”  के लिए ज्ञानपीठ पुरस्कार दिया गया ।

    * महादेवी वर्मा को सन 1982 ई. में “यामा” के लिए ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया । महादेवी वर्मा की कृति “यामा” में निहार ,रश्मि, निरजा और सांध्य गीत का काव्य संग्रह है ।

    * स्वच्छंदतावाद के प्रमुख कवि हैं –  श्रीधर पाठक ,हरिवंश राय बच्चन ,रामेश्वर शुक्ल ‘अंचल’, नरेंद्र शर्मा ।

    * हरिवंश राय बच्चन को हालावाद का जनक कहा जाता है । उमर खय्याम की रुबाईयों से प्रेरित होकर उन्होंने “मधुशाला”, “मधुबाला”, ” मधुकलश”  की रचना की । “मधुशाला”  के कारण इनको लोकप्रियता मिली । हरिवंश राय बच्चन प्रसिद्ध सिनेमा कलाकार अमिताभ बच्चन के पिता थे ।

    * प्रगतिवाद की अवधारणा  –   प्रगतिवाद का संबंध मार्क्सवादी विचारधारा से है । इस आंदोलन का प्रवर्तन पाश्चात्य देशों में हुआ । 1935 ई. मैं पेरिस में प्रगतिशील लेखक संघ की स्थापना हुई । इसकी एक शाखा भारतवर्ष में भी स्थापित हुई । लखनऊ में “भारतीय प्रगतिशील लेखक संघ” का प्रथम अधिवेशन 1936 ई. में हुआ । इस अधिवेशन की अध्यक्षता मुंशी प्रेमचंद्र ने की थी । इसका द्वितीय अधिवेशन कोलकाता में 1938 ई. में हुई , जिसकी अध्यक्षता रविंद्र नाथ टैगोर ने की थी । प्रगतिशील लेखकों एवं कवियों की लेखनी में समाज में गरीब व कमजोर वर्ग तथा शोषित वर्ग को न्याय दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई । 1936 ई. से 1943 ई. की कविताएं प्रगतिवादी कविता कहलायी । कुछ प्रमुख प्रगतिवादी कवि निम्नलिखित है – केदारनाथ अग्रवाल ,रामविलास शर्मा ,नागार्जुन ,शिवमंगल सिंह ‘सुमन’  ,डॉ रांगेय राघव ,त्रिलोचन शास्त्री आदि ।

    * प्रयोगवाद की अवधारणा   –  छायावाद और प्रगतिवाद के विरोध स्वरूप प्रयोगवाद प्रकाश में आया प्रयोगवाद का मूल आधार वैयव्यक्ति है । इसमें मध्यमवर्गीय समाज का चित्रण प्रमुखता से किया गया है | काव्य में नए प्रयोग , नए किस्म के अलंकार व सत्य का नग्न  चित्रण किया गया  |  प्रयोगवाद का प्रारंभ 1943 ई.में तारसप्तक के प्रकाशन से मानी जाती है ,जिसके संपादक सच्चिदानंद हीरानंद वात्सायन ‘अज्ञेय’ थे ।

    * तारसप्तक के कवि- तार सप्तक का प्रकाशन 1943 ई. में अज्ञेय के संपादन काल में किया गया । कुल 4 तार सप्तक प्रकाशित हुए उनके कवियों के नाम निम्नलिखित है –

    तार सप्तक (1943 ई.) के कवि-

    गजानन माधव ‘मुक्तिबोध’ ,नेमीचंद्र जैन ,भारत भूषण अग्रवाल ,प्रभाकर माचवे, गिरिजाकुमार माथुर, रामविलास शर्मा ,सच्चिदानंद हीरानंद वात्सायन ‘अज्ञेय’ ।

    दूसरा तार सप्तक (1951 ई.) के कवि-

    भवानी प्रसाद मिश्र ,शकुंतला माथुर ,हरिनारायण व्यास, शमशेर बहादुर सिंह, नरेश मेहता ,रघुवीर सहाय ,धर्मवीर भारती ।

    तीसरा तार सप्तक (1959 ई.) के कवि-

    प्रताप नारायण त्रिपाठी ,कुंवर नारायण, कीर्ति चौधरी, केदारनाथ सिंह, विजयदेव नारायण शाही, मदन वात्सायन ,सर्वेश्वर दयाल सक्सेना ।

    चौथा तार सप्तक (1979 ई.) के कवि-

    अवधेश कुमार ,राजकुमार कुंभज ,स्वदेश भारती ,नंदकिशोर आचार्य ,सुमन राजे ,श्री राम वर्मा ,राजेंद्र किशोर ।

    * नई कविता का परिचय-

    प्रयोगवाद के बाद ही नई कविता ने जन्म लिया । अधिकांश विद्वानों ने 1953 ई. के काल के बाद की कविता को नई कविता के रूप में उभर कर सामने आने की परिचर्चा में नई कविता को नए कलेवर के रूप में व्याख्यायित किया । कुछ विद्वान प्रयोगवाद को ही नई कविता ,तो कुछ विद्वान प्रयोगवाद के बाद नई कविता को मानते हैं । नई कविता में सुख-दुख ,आस्था -अनास्था ,कुंठा –पीड़ा,अकेलापन आदि संवेदना ओं का यथार्थ चित्रण हुआ है  | नई कविता ने समाज की पुरानी परंपराओं से हटकर नए विचार से समाज में नये चिंतन धारा को जन्म दिया । नई कविता के प्रमुख कवि हैं – धर्मवीर भारती ,केदारनाथ सिंह, सुदामा पांडे ‘धूमिल’ ,भवानी प्रसाद मिश्र आदि ।

    • समकालीन कविता   –  समकालीन कविता को “साठोत्तरी   कविता”  भी कहते हैं । समकालीन कविता से आशय है कि वह कविता जो सन 1960 ई. के बाद लिखी गई है । अजनवीपन , यथार्थ और अयथार्थ ,राजनीतिक परिदृश्य , ज्वलंत मुद्दे आदि समकालीन कविता के विषय हैं । समकालीन कवियों में गजानन माधव ‘मुक्तिबोध’ ,जगदीश गुप्त, भवानी प्रसाद मिश्र ,कुंवर नारायण ,कैलाश बाजपेयी, श्रीकांत वर्मा ,शंभूनाथ सिंह , अशोक बाजपेयी, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना, राजकमल चौधरी आदि है ।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                         


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

वेबसाइट के होम पेज पर जाने के लिए क्लिक करे

Donate Now

Please donate for the development of Hindi Language. We wish you for a little amount. Your little amount will help for improve the staff.

कृपया हिंदी भाषा के विकास के लिए दान करें। हम आपको थोड़ी राशि की कामना करते हैं। आपकी थोड़ी सी राशि कर्मचारियों को बेहतर बनाने में मदद करेगी।

[paytmpay]