भक्ति काल (1350 ई0 से 1650 ई0 तक )


हिंदी साहित्य का भक्ति काल मध्य भाग का प्रारम्भिक भाग है | यह वह काल है जो वैचारिक समृद्धता और कला वैभव के लिये विख्यात रहा है | इस काल मे हिंदी काव्य मे किसी एक दृष्टि से नही अपितु अनेक दृष्टियो से उत्कृष्टता पायी जाती है | इसी कारण विव्दानो ने भक्ति काल को हिंदी साहित्य का स्वर्णयुग कहा है |
हिंदी मे भक्ति साहित्य परम्परा का शुभारम्भ महाराष्ट्र के संत नामदेव की रचनाओ से माना जा सकता है |

भक्ति अन्दोलन के कारण –

विभिन्न विद्वानो ने भक्ति अन्दोलन के कारणो को अपने – अपने तरीके से व्याख्यायित किया है | भक्ति अन्दोलन के उदय के विभिन्न विद्वानो द्वारा भिन्न – भिन्न कारण बताये गये है | जिनका विवरण इस प्रकार है –

1. आचार्य राम चंद्रशुक्ल के अनुसार –

आचार्य राम चंद्रशुक्ल ने भक्ति अन्दोलन के उदय के निम्न कारण बताये है –
(i) जब देश मे मुस्लमानो का राज्य स्थापित हो गया तो हिन्दू जनता हताश, निराश एवं पराजित हो गयी थी | पराजित मनोवृत्ति मे ईश्वर की ओर उन्मुख होना स्वाभाविक था |
(ii) हिन्दू जनता ने भक्ति भवना मे माध्यम से अपनी आध्यात्मिक श्रेष्ठता दिखाकर पराजित मनोवृत्ति का शमन किया |
(iii) भक्ति का मूल स्रोत दक्षिण भारत मे था | 7 वीं शती मे आलवर भक्तो ने जो भक्ति भावना प्रारम्भ की उसे उत्तर भारत मे फैलने के लिये अनुकूल परिस्थिया प्राप्त हुई |

2. आचार्य हजारी प्रसाद व्दिवेदी के अनुसार –

आचार्य हजारी प्रसाद व्दिवेदी जी ने आचार्य रामचंद्र शुक्ल जी के मत से असहमति व्यक्त करते हुए कहा कि भक्ति भावना पराजित मनोवृत्ति की उपज नहीं है  और न यह इस्लाम के बलात प्रचार के परिणाम स्वरूप उत्पन्न हुई | आचार्य हजारी प्रसाद व्दिवेदी जी का तर्क यह भी है कि हिन्दू सदा से आशावादी जाति रही है | अगर भक्ति काल के कवियों को देखा जाय तो किसी भक्ति कवि मे निराशा का पुट नही है |

3. सर जार्ज ग्रियर्सन के अनुसार –  

सर जार्ज ग्रियर्सन भक्ति अन्दोलन का उदय ईसाई धर्म के प्रभाव को मानते है | उनका यह भी मानना है कि रामानुजाचार्य को भावावेश और प्रेमोल्लास के धर्म का सन्देश ईसाइयों से मिला |

निष्कर्ष –  

निष्कर्ष स्वरूप हम यह कह सकते है कि हिंदी साहित्य मे भक्ति अन्दोलन का प्रारम्भ दक्षिण भारत के आलवर भक्तो की परम्परा मे हुआ | भक्ति अन्दोलन प्राचीन भारतीय ज्ञान एवं दर्शन के एक अविछिन्न धारा है , जो अत्यंत शक्तिशाली एवं व्यापक है |
भक्ति – साधन और प्रकार – भागवत पुराण के अंतर्गत भक्ति के नौ साधनो का उल्लेख मिलता है |जिसे नवधा भक्ति कहते है | जिसका विवरण इस प्रकार है –

1 श्रवण –

श्रवण का तात्पर्य भगवान के गुण नाम और लीलाओ का श्रवण करना |

2 कीर्तन –

प्रवचन , ब्याख्या , स्तवन , स्रोत पाठ , कथा आदि कीर्तन के अन्तर्गत आते है |

3 स्मरण –

स्मरण से तात्पर्य है – भगावान के नाम , गुण और लीलाओं का स्मरण करना |

4 पाद  सेवन –

पाद सेवन चरण सेवा को माना जाता है |

5 वन्दना –

ईश्वर को प्रमाण करना वन्दना के अन्तर्गत आता है |

6 दास्य –

अपने आप को भगवान का दास मानना | भक्तिकाल के कवि तुलसीदास की भक्ति दास्य भाव की ही है |

7 अर्चना –

यह भक्ति का ऐसा साधन है जिससे हृदय निर्मल और निश्चल होता है |

8 सख्य –

ईश्वर को अपना सखा या मित्र समझना ही सख्य भाव है |महाभारत मे अर्जुन सख्य भाव के उदाहरण है |

9 आत्म निवेदन अथवा शरणागत –

  इसका तात्पर्य है कि भक्ति अपने आप को पूरी तरह से ईश्वर के चरणों मे समर्पित कर दे अथवा ईश्व्वर के चरण मे चला जाय |

विभिन्न आचार्यो द्वारा प्रवर्तित सम्प्रदाय –

सिद्धान्त या सम्प्रदाय का नाम

प्रवर्तक आचार्य का नाम

विशिष्टाव्दैतवाद रामानुजाचार्य
व्दैतवाद (ब्रह्म सम्प्रदाय) मध्वाचार्य
अव्दैतवाद शंकराचार्य
राधाबल्लभी सम्प्रदाय स्वामी हित हरिवंश
शुद्धा व्दैतवाद बल्लभाचार्य
रामावत सम्प्रदाय रामानन्द
व्दैताव्दैतवाद निम्बार्काचार्य
सखी सम्प्रदाय स्वामी हरिदास
रुद्र सम्प्रदाय विष्णु स्वामी
गौडीय सम्प्रदाय (चैतन्य सम्प्रदाय) चैतन्य महाप्रभु
हरिदासी सम्प्रदाय स्वामी हरिदास
श्री सम्प्रदाय रामानुजाचार्य

भक्ति काल का वर्गीकरण –

भक्ति काल के वर्गीकरण को दो धाराओ में बाटा जा सकता है | जिसका विवरण निम्नलिखित है –

1. निर्गुण काव्य धारा –

निर्गुण काव्य धारा को दो भागो मे बाँटा गया है |

(क) संत काव्य धारा (ज्ञानाश्रयी शाखा) –

इस धारा के प्रतिनिधि कवि कवीरदास जी है |

(ख) सूफी काव्य धारा (प्रेमाश्रयी शाखा) –

इस धारा के प्रतिनिधि कवि मलिक मोहम्मद जायसी है |

2. सगुण काव्य धारा –

सगुण काव्य धारा को भी दो भागो मे बाँटा गया है |

(क) रामकाव्य धारा (रामाश्रयी शाखा) –

इस धारा के प्रतिनिधि कवि तुलसीदास जी है |

(ख) कृष्ण काव्य धारा (कृष्णाश्रयी शाखा) –

इस धारा के प्रतिनिधि कवि सूरदास जी है |


One response to “भक्ति काल का सामान्य परिचय”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

वेबसाइट के होम पेज पर जाने के लिए क्लिक करे

Donate Now

Please donate for the development of Hindi Language. We wish you for a little amount. Your little amount will help for improve the staff.

कृपया हिंदी भाषा के विकास के लिए दान करें। हम आपको थोड़ी राशि की कामना करते हैं। आपकी थोड़ी सी राशि कर्मचारियों को बेहतर बनाने में मदद करेगी।

[paytmpay]